पुराण विषय अनुक्रमणिका

PURAANIC SUBJECT INDEX

(From Jalodbhava  to Tundikera)

Radha Gupta, Suman Agarwal & Vipin Kumar

Home page

Jalodbhava - Jaatipushpa (Jahnu, Jagrata / awake, Jaajali, Jaataveda / fire, Jaati / cast etc.)

Jaatukarnya - Jaala  (Jaatukarnya, Jaanaki, Jaabaali, Jaambavati, Jaambavaan etc. )  

Jaala - Jeeva  (Jaala / net, Jaalandhara, Jaahnavi, Jihvaa / tongue, Jeemuuta, Jeeva etc.)

Jeeva - Jaimini ( Jeevana / life, Jrimbha, Jaigeeshavya, Jaimini etc.) 

Joshtri - Jyeshthaa (Jnaana / knowledge, Jyaamagha, Jyeshthaa etc. )  

Jyeshthaa - Jwalanaa  ( Jyeshthaa, Jyoti / light, Jyotisha / astrology, Jyotishmaan, Jyotsnaa, Jwara / fever etc. )

Jwalanaa - Dhaundhaa (Jwaala / fire, Tittibha, Damaru, Daakini, Dimbhaka, Dhundhi etc.)

Ta - Tatpurusha ( Taksha / carpenter, Takshaka, Takshashilaa, Tattva / fact / element etc. ) 

Tatpurusha - Tapa (Tatpurusha, Tanu / body, Tantra / system, Tanmaatraa, Tapa / penance etc. )

Tapa - Tamasaa (Tapa, Tapati, Tama / dark, Tamasaa etc.)

Tamaala - Taamasi (Tarpana / oblation, Tala / level, Taatakaa, Taapasa, Taamasa etc.)

Taamisra - Taaraka (Taamisra, Taamboola / betel, Taamra / copper, Taamraparni, Taamraa, Taaraka etc.)

Taaraka - Taala (Taaraa, Taarkshya, Taala etc.)

Taala - Tithi  (Taalaketu, Taalajangha, Titikshaa, Tithi / date etc. )

Tithi - Tilottamaa  (Tila / sesame, Tilaka, Tilottamaa etc.)

Tilottamaa - Tundikera (Tishya, Teertha / holy place, Tungabhadra etc.)

 

 

महाधन भाण्डपति ईश्वर जामाता कथा (लब्धप्रणाशम्, कथा 9)

जामातृ विषये ऋग्वेद 8.26.21-22  संदर्भः अस्ति -

तव वायवृतस्पते त्वष्टुर्जामातरद्भुत ।
अवांस्या वृणीमहे ॥२१॥
त्वष्टुर्जामातरं वयमीशानं राय ईमहे ।
सुतावन्तो वायुं द्युम्ना जनासः ॥२२॥

अस्मिन् ऋचायाम् उक्तं यत् वायुः त्वष्टुः जामाता भवति। पौराणिक कथासु वायुः जामाता न भवति, अपितु सूर्यः त्वष्टुः जामाता। प्राणानां समूहस्य अनिरुक्त रूपं वायुः संज्ञा धारयते। सूर्योपि प्राणानां समूहस्य सर्वाधिक विकसित रूपं भवति। यदा त्वष्टुः दुहिता संज्ञा सूर्यस्य तेजं सहितुं असहमाना भवति, तदा त्वष्टा सूर्यं स्वभ्रमि उपरि स्थापयित्वा तस्य तेजस्य कर्तनं करोति(विष्णु पुराणम् 3.2.11)। सूर्यस्य कर्तित तेजात् देवानां शस्त्राणां निर्माणं भवति। त्वष्टा एव भाण्डपतिः, सः कुम्भकारवत् स्वभ्रमि द्वारा अस्मिन् संसारे विभिन्न भाण्डानां निर्माणं करोति।

जामातृ रूपेण, पं. मोतीलाल शास्त्री? (अथवा हरिशंकर जोशी?) स्वलेखेषु कथयन्ति यत् विवाहे वरस्य वास्तविक रूपं विष्णुः अस्ति। यदि अयं कथनं सत्यमस्ति, तदा पंचतन्त्रस्य कथायां चत्वारः जामातारः के भवन्ति। अयं प्रतीयते यत् अयं कथा सम्पूर्ण सोमयागस्य विहंगम दृष्टिः अस्ति।

गर्ग

गर्गः प्रथम जामाता अस्ति। पादशौच हेतु उदकस्य निषेधात् गर्गः श्वसुरगृहं त्यजति। सोमयागे क्रीतसोमं शकटे आरोपयित्वा यज्ञभूमिं प्रति आनयन्ति। स सोमः अतिथिरूपः भवति। यथा अतिथेः आगमने सति तस्य पादशौचार्थं उदकं आहरन्ति, तथैव अत्रापि भवति (शतपथ ब्राह्मणम् )। अतिथिं सोमं उदकं केन हेतुना प्रस्तूयन्ते। अयं अतिथि सोमः शूद्रात् क्रीतं भवति। आवां शरीरतन्त्रे पादाः शूद्राः कथ्यन्ते। सोमस्य प्रथमं प्राप्तिरपि पादेभ्यः एव भवति। अतः अयं आवश्यकं भवति यत् यदि सोम अतिथेः कोपि अंशः शूद्रात्मकं भवति, तस्य शुद्धिः आवश्यकमेव अस्ति। शूद्रस्य किं लक्षणं। शूद्रस्य प्राणाः ऊर्ध्वारोहणं न कुर्वन्ति। अतएव कोपि उपायकरणं आवश्यकं भवति येनोपायेन प्राणाः ऊर्ध्वगामी भवेयुः। उदक आहरणस्य कथने उदकस्य निरुक्तिः उदञ्चं आरोहति इति उदकः भवति। यदा कोपि महान् पुरुषः आगच्छति, तर्हि आवां सर्वे प्राणाः ऊर्ध्वगामी भवन्ति। तस्य प्रतीकरूपेण, यदा कोपि महान् व्यक्तिः आगच्छति, वयं उत्तिष्ठन्ति। अतिथिं पादशौचार्थं उदकस्य प्रस्तुतीकरणे द्वि अभिप्रायाः भवितुं शक्यन्ते। स्वपुण्यानि अपि आपः, उदकानां रूपम्। अतः यदि कोपि अतिथिः गृहे प्रविशतुं इच्छति, सः न शूद्ररूपेण प्रवेशनीयः, सः ब्राह्मणरूपेण प्रवेशनीयः। तस्य शूद्रत्व अपनयनार्थं वयं स्वपुण्यानि तस्मै प्रयच्छामः, अयं अर्थः। अतिथेः एकं अन्यमपि अर्थः। आवां बुद्धिः सीमितं अस्ति। यदा कदा कोपि उत्कृष्ट विचारः प्रगटीभवति। स अतिथिरूपमेव। अस्य उत्कृष्ट विचारस्य जन्मस्थली विज्ञानमय कोशः अस्ति। विज्ञानमय कोशस्य विशेषता अस्ति यत् अत्र स्थित चेतनायाः गमनं भूत एवं भविष्य काले अपि भवति। अतः विज्ञानमय कोशस्य चेतना भूतं एवं भविष्यं जानाति। डा. फतहसिंह अनुसारण गर्ग शब्दस्य अयमेव गुणः एवं निरुक्तिः गॄ विज्ञाने।

अयं चित्रः गार्गेयपुरम्, कर्नूले माघ कृष्ण अमावास्यातः माघशुक्ल द्वादशी, विक्रम संवत् 2071 पर्यन्तं अनुष्ठितस्य ज्योति अप्तोर्याम सोमयागस्य श्री राजशेखरशर्मणः संग्रहात् गृहीतं अस्ति(कूट24-25)

भारतीय साहित्य में सार्वत्रिक रूप से अतिथि के पाद प्रक्षालन हेतु उदक प्रस्तुत करने के उल्लेख आते हैं । इस संदर्भ में ऐतरेय ब्राह्मण ८.२४ का कथन है कि अतिथि वैश्वानर अग्नि का रूप है और पाद प्रक्षालन का उद्देश्य यह है कि अतिथि के पादों में जो मेनि / क्रोध रूपा शक्ति विद्यमान है , वह शान्त हो जाए । अथर्ववेद ९.६.४ तथा ९.१०.८ में कहा गया है कि जो अतिथि से उदक की याचना की जाती है वह भक्ति के हिंकार , प्रस्ताव , उद्गीथ, प्रतिहार और निधन , इन पांच प्रकारों में से उद्गीथ प्रकार का रूप है । उपनिषदों में ओंकार को ही उद्गीथ कहा गया है । ऋग्वेद १.१६४.७ तथा अथर्ववेद ९.१४.५ में एक ऐसी गौ का उल्लेख है जो सिर से तो दूध देती है और पद से उदक का पान करती है । सहज योग आंदोलन की प्रवर्तक माता निर्मला देवी के अनुसार जब भक्त अपने चरण किसी सिद्ध तीर्थ या स्थान की ओर बढाता है तो उसके चरण दिव्य तरंगों को ग्रहण करने लगते हैं और सूचना देते हैं कि वह किसी दिव्य स्थान की ओर बढ रहा है । पदों द्वारा दिव्य तरंगों का ग्रहण करना उदक पान के तुल्य ही है । एक ओर पदों द्वारा उदक का पान है तो दूसरी ओर विष्णु के पदों / पादांगुष्ठ से गंगा के उद्भव का उल्लेख आता है । यह कहा जा सकता है कि जब साधक के समक्ष दिव्य शक्ति अथवा अतिथि का अवतरण होता है तो उसके पदों से उदक निकल कर शीर्ष की ओर गति करता है । यही पादोदक का पान है ।

सोम

अयं चित्रः गार्गेयपुरम्, कर्नूले माघ कृष्ण अमावास्यातः माघशुक्ल द्वादशी, विक्रम संवत् 2071 पर्यन्तं अनुष्ठितस्य ज्योति अप्तोर्याम सोमयागस्य श्री राजशेखरशर्मणः संग्रहात् गृहीतं अस्ति(कूट25-18)

 

भाण्डपतेः द्वितीयस्य जामातुः नाम सोमः अस्ति। यदा सोमाय लघु आसनं दीयन्ते, तदा सोमः रुष्टं भवति। सः गृहात् निष्क्रामति। आसनः प्रतिष्ठा हेतु भवति। सोमयागे अग्नीषोमीय यागकाल पर्यन्तं अतिथि सोमस्य प्रतिष्ठा आसन्दी नामक आसनोपरि क्रियन्ते। यावत् सोमः आसन्दी उपरि स्थितं भवति, तावत्काले प्रवर्ग्य उपसद इष्टयः संपन्ना भवन्ति। उपसदकाले इष्टकानां चयनमपि क्रियन्ते। प्रवर्ग्य इष्टिषु महावीर नामक मृत्तिकापात्रे घृतं क्वथयन्ति। अस्मिन्

अयं चित्रः गार्गेयपुरम्, कर्नूले माघ कृष्ण अमावास्यातः माघशुक्ल द्वादशी, विक्रम संवत् 2071 पर्यन्तं अनुष्ठितस्य ज्योति अप्तोर्याम सोमयागस्य श्री राजशेखरशर्मणः संग्रहात् गृहीतं अस्ति(कूट25-14)

 

घृते यदा पयः प्रक्षेपं भवति, तदा प्रचंड ज्वालानाम् प्रादुर्भावः भवति। अस्य कृत्यस्य प्रवर्ग्य संज्ञा भवति। तत्पश्चात् उपसद इष्टि एवं अग्निचयनं भवति। यः कार्यः प्रवर्ग्य इष्टि द्वारा त्वरित रूपेण संपन्नं भवति, तदैव कार्यः उपसद- अग्निचयन द्वारा मन्द गति द्वारा सम्पन्नं भवति। प्राणानां गतिः द्विप्रकारस्य त्वरित गतिः एवं मन्थर गतिः। अग्निचयन द्वारा मन्दगति प्राणानां श्येनरूपं प्रदीयन्ते, यतः तेपि द्युलोकात् सोमस्य हरणे समर्था भवन्ति। अग्नेः यः रूपः सोमस्य आहरणे समर्थः, तस्य नाम गायत्री अस्ति। गायत्री छन्दस्य विशेषता अस्ति यत् अस्मिन् छन्दे त्रयः पदानि भवन्ति। त्रयाणामपि पदानां विनियोगः ऊर्ध्वमुखी गति हेतु भवति, न दिशासापेक्ष तिर्यक् गति हेतु। अग्निः सोमस्य प्रतिष्ठा अस्ति। तस्य त्वरित गति कृत्यं प्रवर्ग्य द्वारा कृतमस्ति। मन्थरगति रूपं अग्निचयन द्वारा। अस्य प्रक्रियायाः पुनरावृत्ति संवत्सरपर्यन्तं क्रियमाणा भवति। संवत्सर अर्थात् सूर्य पृथिवी एवं चन्द्रमा परस्पर सम्बद्धा भवन्ति। तेषां न कोपि स्वतन्त्र गतिः शेषं भवति। लोके कस्यापि देवप्रतिमा स्थापना पूर्वं प्रतिष्ठा महोत्सवं भवति।

 

 

अथर्ववेद १५.३.१ से आरम्भ करके कईं सूक्तों में व्रात्य द्वारा आसन्दी पर आरूढ होकर दसों दिशाओं में भ्रमण करने का वर्णन है। इसी प्रकार ऐतरेय ब्राह्मण ८.५ व ८.१२ में आसन्दी के चार पादों का उल्लेख आता है जिनमें से दो तो बहिर्वेदी में और दो अन्तर्वेदी में स्थित होते हैं। विभिन्न देवगण इन पादों का वहन करते हैं। यह आसन्दी उदुम्बर वृक्ष के काष्ठ की बनी होती है। ऊर्जा को उदुम्बर कहा जाता है। शतपथ ब्राह्मण ६.७.१.१२ के अनुसार आसन्दी पृथिवी का रूप है जबकि उदुम्बर द्यौ का रूप। ऐतरेय आरण्यक १.२.४ के अनुसार श्री ही आसन्दी है। इन्द्र रूपी यजमान अभिषेकार्थ ऐसी आसन्दी पर आरूढ आरूढ होता है। ऐतरेय ब्राह्मण ८.५ तथा ८.१२ के अनुसार अग्नि गायत्री छन्द द्वारा, सविता उष्णिक् छन्द द्वारा, सोम अनुष्टुप् छन्द द्वारा, बृहस्पति बृहती छन्दों आदि के द्वारा इन्द्र को आसन्दी पर आरूढ करते हैं जिससे वह राज्य, साम्राज्य, भौज्य, स्वराज्य, वैराज्य आदि प्राप्त कर सके। ऐतरेय आरण्यक १.२.४ तथा जैमिनीय ब्राह्मण २.१९९ व २.४१८ आदि के अनुसार उद्गाता नामक ऋत्विज अनुष्टुप् छन्द के अक्षरों से बनी आसन्दी पर आरूढ होता है, जबकि होता नामक ऋत्विज प्लेंका/पंख/दोला पर आरूढ होता है जो वायु या प्राणों का रूप है। प्लेंखा आसन्दी रूपी योषा से मिथुन करके उसमें गर्भ स्थापित करता है। असुरों द्वारा प्रस्तुत आसन्दी शिला बन कर जकडने वाली होती है(जैमिनीय ब्राह्मण ३.७३)।

 

दत्त

भाण्डपतेः तृतीय जामाता दत्त नामा अस्ति। यदा कदर्यान्न द्वारा तस्य तिरस्कारं क्रियन्ते, तदा सोपि तिरोहितं भवति।

सोमयागे, यदा सोमस्य प्रतिष्ठा अग्न्योपरि सम्पूर्णं भवति, तदा सोमं आसन्द्यात् आहृत्य तस्य शोधनं कुर्वन्ति, तम् अन्नाद्य रूपे परिवर्तन्ते। अस्य अन्नाद्य सोमस्य हविः देवानां हेतु प्रस्तूयन्ते। पयः, घृत एवं मधु एषां त्रयाणां संज्ञा अन्नाद्य भवति, अन्नानां श्रेष्ठतमाः। देवेभिः साकं, शोधित सोमस्य एकस्य अंशस्य, शेषभूतस्य अंशस्य उपयोगं यज्ञस्य कर्तृभिः अपि भवति। अन्नस्य पाकं केन प्रकारेण भवितुं शक्यते। अस्य उपायः पापनाश एवं भक्तिरेव प्रतीयते। अयमपि संभवमस्ति यत् प्रवर्ग्यस्य ऊर्जां केन्द्रीय ऊर्जा रूपे परिवर्तनं अन्नस्य पाकमस्तु। अस्य संज्ञा ब्रह्मौदनं भवति। अयमेव यज्ञस्य शिरः भवितुं शक्नोति।

अयं चित्रः गार्गेयपुरम्, कर्नूले माघ कृष्ण अमावास्यातः माघशुक्ल द्वादशी, विक्रम संवत् 2071 पर्यन्तं अनुष्ठितस्य ज्योति अप्तोर्याम सोमयागस्य श्री राजशेखरशर्मणः संग्रहात् गृहीतं अस्ति(कूट30-5)

 

दत्त शब्दस्य किं तात्पर्यं अस्ति, अयं अन्वेषणीयः। दत्तात्रेयस्य कथाभिः इदं प्रतीयते यत् दत्तः स्थितिः सः भवति यत्र सोमस्य आपूर्तिः सीमित एव भवति, न असीमितं। अस्य सीमित आपूर्तेः सम्यक् उपयोगं करणीयं उचितं अस्ति। यत्र यत्र सोमस्य अनावश्यकं क्षयं भवति, तत् रोधनीयम्। रोधनस्य उपायः यम नियम आदि योगः भवति। अतएव दत्तात्रेय ऋषिः किंचित् पापासक्त पुरुषानपि(यथा यदु, हैहय) योगस्य शिक्षां ददाति। दत्त अर्थात् केनापि कृपया दत्तं धनम्, न स्वपुरुषार्थेन अर्जितम्।

श्यामलः

भाण्डपतेः चतुर्थं जामाता श्यामलकः अस्ति। तस्य अपनयनार्थं अर्धचन्द्रस्य उल्लेखं भवति। अर्धचन्द्रस्य सामान्य अर्थः कण्ठपरितः बाहुं दत्त्वा बलपूर्वक निरसनं भवति। श्यामलः अर्थात् यः कृष्णं, श्यामं अस्ति, तस्मिन् रंगं ददाति, यः साधना शुष्कमस्ति, सा साधना भक्तिपूर्णं भवति। ओंकारोपरि अपि अर्धचन्द्रः भवति। स्कन्दपुराण अम्बिकाखण्ड 180.32 अनुसारेण ओंकारे अर्धमात्रा प्रकृतेः सूचकं अस्ति।

अकारे तत्र विष्णुस्तु उकारे तु पितामहः ।
मकारे भगवानीशो मात्रायां प्रकृतिः स्मृता ।।३ ३ । ।

प्रकृति एव श्यामा अस्ति। सा रंगं, भक्तिं अभिलषति।

 

 

जामाता के विषय में ऋग्वेद 8.26.21-22 में उल्लेख है

तव वायवृतस्पते त्वष्टुर्जामातरद्भुत ।
अवांस्या वृणीमहे ॥२१॥
त्वष्टुर्जामातरं वयमीशानं राय ईमहे ।
सुतावन्तो वायुं द्युम्ना जनासः ॥२२॥

इस ऋचा में कहा गया है कि वायु त्वष्टा का जामाता है। पुराण कथाओं में वायु जामाता नहीं, अपितु सूर्य त्वष्टा का जामाता है। सामूहिक प्राणों के अनिरुक्त रूप की संज्ञा वायु कहलाती है। सूर्य भी सामूहिक प्राणों का सर्वाधिक विकसित रूप है। जब त्वष्टा की पुत्री संज्ञा सूर्य के तेज को सहन करने में असमर्थ हो जाती है तो त्वष्टा सूर्य को अपनी भ्रमि पर स्थापित करके उसके तेज का कर्तन कर देता है(विष्णु पुराण 3.2.11)। सूर्य के कर्तित तेज से देवों के शस्त्रों आदि का निर्माण होता है। त्वष्टा ही पंचतन्त्र का भाण्डपति है, वह कुंभकारवत् अपनी भ्रमि द्वारा संसार में विभिन्न भाण्ड बनाता रहता है।

जामाता के रूप में, पं. मोतीलाल शास्त्री? (अथवा हरिशंकर जोशी?) अपने लेखों में उल्लेख करते हैं कि विवाह नामक लौकिक कृत्य में वर का वास्तविक स्वरूप विष्णु है। यदि यह कथन सत्य है तो पंचतन्त्र की कथा में चार जामाता क्या हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि यह कथा सम्पूर्ण सोमयाग की एक विहंगम दृष्टि है।

गर्ग

गर्ग प्रथम जामाता है। पादशौच हेतु उदक के निषेध से गर्ग श्वसुरगृह का त्याग कर देता है। सोमयाग में क्रीतसोम को शकट पर स्थापित कर यज्ञभूमि में लाते हैं। वह सोम अतिथिरूप होता है। जैसे अतिथि के आगमन पर उसके पादशौच हेतु उदक प्रदान किया जाता है, ऐसे ही यहां भी किया जाता है(शतपथ 3.4.1.5)। अतिथि सोम को उदक किस हेतु से दिया जाता है। यह अतिथि सोम शूद्र से क्रीत होता है। हमारे शरीरतन्त्र में पाद शूद्र कहे जाते हैं। सोम की प्रथम प्राप्ति भी पादों से ही होती है। अतः यह आवश्यक है कि यदि सोम अतिथि का कोई अंश शूद्रात्मक है तो उसका शुद्धिकरण किया जाए। शूद्र का क्या लक्षण है। शूद्र के प्राण ऊर्ध्व आरोहण नहीं करते। अतः कोई उपाय होना चाहिए जिससे प्राण ऊर्ध्वगामी बनें। उदक आहरण का जो कथन है, उसमें उदक की निरुक्ति उदञ्चं आरोहति इत उदकः की जाती है। जब कोई महान् पुरुष आता है, तो हमारे सारे प्राण ऊर्ध्वगामी हो जाते हैं। उसी के प्रतीक रूप में, जब कोई महान् व्यक्ति आता है तो हम खडे हो जाते हैं। पादशौचार्थ अतिथि को उदक प्रस्तुत करने के दो अभिप्राय हो सकते हैं। स्वअर्जित पुण्यों को भी आपः, उदक कहा जाता है। अतः यदि कोई अतिथि गृह में प्रवेश करना चाहता है तो वह शूद्र रूप में प्रवेश न करे, ब्राह्मण रूप में करे। उसके शूद्रत्व के अपनयन के लिए हम अपने पुण्यों को उसे देते हैं। अतिथि का एक और भी अर्थ है। हमारी बुद्धि सीमित है। जब कोई उत्कृष्ट विचार प्रकट होता है, वह अतिथि रूप ही होता है। अतिथि अर्थात् जो तिथि से रहित है, पता नहीं कब प्रकट हो जाए। इस उत्कृष्ट विचार की जन्मस्थली विज्ञानमय कोश है। विज्ञानमय कोश की विशेषता यह है कि यहां स्थित चेतना भूत और भविष्य का ज्ञान रखती है। डा. फतहसिंह के अनुसार गर्ग शब्द में भी यह गुण निहित है । गॄ विज्ञाने

भारतीय साहित्य में सार्वत्रिक रूप से अतिथि के पाद प्रक्षालन हेतु उदक प्रस्तुत करने के उल्लेख आते हैं । इस संदर्भ में ऐतरेय ब्राह्मण ८.२४ का कथन है कि अतिथि वैश्वानर अग्नि का रूप है और पाद प्रक्षालन का उद्देश्य यह है कि अतिथि के पादों में जो मेनि / क्रोध रूपा शक्ति विद्यमान है , वह शान्त हो जाए । अथर्ववेद ९.६.४ तथा ९.१०.८ में कहा गया है कि जो अतिथि से उदक की याचना की जाती है वह भक्ति के हिंकार , प्रस्ताव , उद्गीथ, प्रतिहार और निधन , इन पांच प्रकारों में से उद्गीथ प्रकार का रूप है । उपनिषदों में ओंकार को ही उद्गीथ कहा गया है । ऋग्वेद १.१६४.७ तथा अथर्ववेद ९.१४.५ में एक ऐसी गौ का उल्लेख है जो सिर से तो दूध देती है और पद से उदक का पान करती है । सहज योग आंदोलन की प्रवर्तक माता निर्मला देवी के अनुसार जब भक्त अपने चरण किसी सिद्ध तीर्थ या स्थान की ओर बढाता है तो उसके चरण दिव्य तरंगों को ग्रहण करने लगते हैं और सूचना देते हैं कि वह किसी दिव्य स्थान की ओर बढ रहा है । पदों द्वारा दिव्य तरंगों का ग्रहण करना उदक पान के तुल्य ही है । एक ओर पदों द्वारा उदक का पान है तो दूसरी ओर विष्णु के पदों / पादांगुष्ठ से गंगा के उद्भव का उल्लेख आता है । यह कहा जा सकता है कि जब साधक के समक्ष दिव्य शक्ति अथवा अतिथि का अवतरण होता है तो उसके पदों से उदक निकल कर शीर्ष की ओर गति करता है । यही पादोदक का पान है ।

सोम

भाण्डपति के द्वितीय जामाता का नाम सोम है। जब सोम को लघु आसन दिया जाता है तो वह रुष्ट हो जाता है और गृह से निष्क्रमण कर देता है। आसन प्रतिष्ठा हेतु होता है। सोमयाग में अग्नीषोमीय यागकाल पर्यन्त अतिथि सोम की प्रतिष्ठा आसन्दी नामक आसन पर करते हैं। जब तक सोम आसन्दी के ऊपर स्थित रहता है, तब तक प्रवर्ग्य उपसद इष्टियां संपन्न की जाती हैं। उपसदकाल में इष्टकाओं का चयन भी किया जाता है। प्रवर्ग्य इष्टियों में महावीर नाम मृत्तिकापात्र में घृत को उबाला जाता है। इस उबलते घृत में जब पयः का प्रक्षेप किया जाता है तो प्रचंड ज्वाला की उत्पत्ति होती है। इस कृत्य की संज्ञा प्रवर्ग्य है। तत्पश्चात् उपसद इष्टि एवं अग्निचयन किया जाता है। जो कार्य प्रवर्ग्य इष्टि द्वारा त्वरित रूप से संपन्न हो जाता है, उसी कार्य को उपसद व अग्निचयन द्वारा मन्द् गति से सम्पन्न कराते हैं।प्राणों की गति दो प्रकार की होती है  - त्वरित गति व मन्थर गति। अग्निचयन द्वारा मन्दगति प्राणों को श्येन रूप प्रदान किया जाता है जिससे वे भी द्युलोक से सोम का आहरण करने में समर्थ हो सकें। अग्नि का जो रूप सोम का आहरण करने में समर्थ है, उसका नाम है गायत्री। गायत्री छन्द की विशेषता यह है कि इसमें तीन पद होते हैं। तीनों ही पदों का विनियोग ऊर्ध्वमुखी गति हेतु ही होता है, दिशाओं के सापेक्ष तिर्यक् गति हेतु नहीं। अग्नि सोम की प्रतिष्ठा है। उसकी त्वरित गति का कृत्य प्रवर्ग्य द्वारा सम्पन्न होता है। मन्थरगति का कृत्य अग्निचयन द्वारा। इन प्रक्रियाओं की पुनरावृत्ति संवत्सरपर्यन्त की जाती है। संवत्सर अर्थात् सूर्य पृथिवी एवं चन्द्रमा परस्पर संबद्ध हो जाएं। उनकी कोई भी स्वतन्त्र गति शेष न रहे, सब युग्मित हो जाएं। लोक में भी, देवप्रतिमा स्थापना से पूर्व प्रतिष्ठा महोत्सव सम्पन्न होता है।

अथर्ववेद १५.३.१ से आरम्भ करके कईं सूक्तों में व्रात्य द्वारा आसन्दी पर आरूढ होकर दसों दिशाओं में भ्रमण करने का वर्णन है। इसी प्रकार ऐतरेय ब्राह्मण ८.५ व ८.१२ में आसन्दी के चार पादों का उल्लेख आता है जिनमें से दो तो बहिर्वेदी में और दो अन्तर्वेदी में स्थित होते हैं। विभिन्न देवगण इन पादों का वहन करते हैं। यह आसन्दी उदुम्बर वृक्ष के काष्ठ की बनी होती है। ऊर्जा को उदुम्बर कहा जाता है। शतपथ ब्राह्मण ६.७.१.१२ के अनुसार आसन्दी पृथिवी का रूप है जबकि उदुम्बर द्यौ का रूप। ऐतरेय आरण्यक १.२.४ के अनुसार श्री ही आसन्दी है। इन्द्र रूपी यजमान अभिषेकार्थ ऐसी आसन्दी पर आरूढ आरूढ होता है। ऐतरेय ब्राह्मण ८.५ तथा ८.१२ के अनुसार अग्नि गायत्री छन्द द्वारा, सविता उष्णिक् छन्द द्वारा, सोम अनुष्टुप् छन्द द्वारा, बृहस्पति बृहती छन्दों आदि के द्वारा इन्द्र को आसन्दी पर आरूढ करते हैं जिससे वह राज्य, साम्राज्य, भौज्य, स्वराज्य, वैराज्य आदि प्राप्त कर सके। ऐतरेय आरण्यक १.२.४ तथा जैमिनीय ब्राह्मण २.१९९ व २.४१८ आदि के अनुसार उद्गाता नामक ऋत्विज अनुष्टुप् छन्द के अक्षरों से बनी आसन्दी पर आरूढ होता है, जबकि होता नामक ऋत्विज प्लेंका/पंख/दोला पर आरूढ होता है जो वायु या प्राणों का रूप है। प्लेंखा आसन्दी रूपी योषा से मिथुन करके उसमें गर्भ स्थापित करता है। असुरों द्वारा प्रस्तुत आसन्दी शिला बन कर जकडने वाली होती है(जैमिनीय ब्राह्मण ३.७३)।

दत्त

भाण्डपति के तीसरे जामाता का नाम दत्त है। जब उसका कदर्यान्न से तिरस्कार करते हैं तो वह भी तिरोहित हो जाता है।

सोमयाग में, जब सोम की अग्नि के ऊपर प्रतिष्ठा पूर्ण हो जाती है, तो सोम को आसन्दी से लेकर उसका शोधन करते हैं, उसे अन्नाद्य में रूपांतरित करते हैं। अन्नाद्य में रूपांतरित सोम की आहुति देवों को दी जाती है। पयः, घृत एवं मधु इन तीन की अन्नाद्य संज्ञा होती है। देवों के साथ साथ, शोधित सोम का एक अंश, शेष अंश यज्ञकर्ताओं द्वारा अपने उपयोग में भी लाया जाता है। अन्न को अन्नाद्य बनाने का क्या उपाय हो सकता है। पापनाश व भक्ति ही उपाय प्रतीत होते हैं। ऐसा भी कहा जा सकता है कि जो ऊर्जा संसार में प्रकीर्ण होने वाली है, उसे यज्ञ का शिर बना देना अन्न को अन्नाद्य बना देना है। इसे ब्रह्मौदन कहा गया है।

दत्त शब्द का क्या तात्पर्य है, यह अन्वेषणीय है। दत्तात्रेय की कथाओं के आधार पर यह प्रतीत होता है कि दत्त स्थिति वह होती है जिसमें सोम की आपूर्ति सीमित ही होती है, असीमित नहीं । इस सीमित आपूर्ति का सम्यक् उपयोग करना उचित ही होगा। जहां जहां सोम का अनावश्यक क्षय हो रहा हो, उसे रोकना। रोकने का उपाय यम नियम आदि ही हैं। दत्तात्रेय ऋषि पापासक्त पुरुषों यथा यदु, हैहय आदि को भी योग की शिक्षा देते हैं। दत्त अर्थात् किसी के द्वारा कृपापूर्वक दिया गया धन, स्वपुरुषार्थ से अर्जित नहीं।

श्यामलक

भाण्डपति के चौथे जामाता का नाम श्यामलक है। उसके अपनयन के लिए अर्धचन्द्र का उल्लेख है। अर्धचन्द्र का सामान्य अर्थ कण्ठ में बांह डालकर बलपूर्वक निकालना है। श्यामल अर्थात् जो कृष्ण है, काला है, उसमें रंग भरना, जो साधना शुष्क है, उस साधना को भक्तिपूर्ण बनाना। ओंकार के ऊपर भी अर्धचन्द्र होता है। स्कन्द पुराण अम्बिका खण्ड 180.32 के अनुसार ओंकार की अर्धमात्रा प्रकृति का सूचक है।

अकारे तत्र विष्णुस्तु उकारे तु पितामहः ।
मकारे भगवानीशो मात्रायां प्रकृतिः स्मृता ।।३ ३ । ।

प्रकृति ही श्यामा है। उसकी अभीप्सा भक्ति द्वारा रंगीन बनने की है।

प्रथम लेखन - माघ कृष्ण द्वादशी, विक्रम संवत् २०७२(५ फरवरी, २०१६ई.)